सभी धर्मों में कुरीतियाँ हैं जो आज भी प्रचलित हो रही है जिनका कोई तर्क भी मौजूद नहीं है परंतु फिर भी वे वर्तमान में भी लगातार चल रही है। […]